Digital clock

Wednesday, 12 May 2010


जो है समां, कल हो ना हो....

हाल ही में एक रिसर्च के तहत बात सामने आई है कि अभी लव कपल्स संबंध बनाने से महत्वपूर्ण किसिंग और हग करने को मानने लगे है। इसके पीछे खास है कि वो संबंधों में कंडोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहते, इसीलिए वो फोर प्ले से पहले किसिंग व हग यानि कि गले लगकर पार्टनर संग सेक्स का पूरा मजा लेना चाहते है।
इसके अलावा अहम तो यह भी है कि इन खास पलों में कुछ गलतियों के कारण वक्त और मूड दोनों को खराब किया जा सकता है। जी हां, साथी के साथ मिले समय को पूरा मौज-मस्ती संग बिताया जाए तो जरूरी है कुछ ध्यान रखने जरूरी बातें, जिनपर अकसर हम ध्यान नहीं देते=
मोबाइल फोन पर बात
सोचिए जब आप अपने साथी के साथ प्रेम का आनंद ले रहे हों और फोन की घंटी बज जाए! कभी कभी कॉल इतना महत्वपूर्ण होता है कि उसे काटा भी नहीं जा सकता और बात करनी ही पड़ती है। लेकिन यह आप दोनों के मूड को बिगाडऩे में कोई कसर बाकी नहीं रखता। इसलिए जब आप अपने साथी के साथ हों तो मोबाइल फोन या तो स्विच ऑफ कर दें या फिर वोइसमेल चालू कर दें।
तेज संगीत
हो सकता है आपको संगीत पसंद हो, यह भी हो सकता है कि आपके साथी को भी संगीत पसंद हो, लेकिन प्यार भरे समय का आनंद उठाने से पहले तेज संगीत आप दोनों के मूड को खराब कर सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार महिलाओं को अंतरंग क्षणों का आनंद उठाने से पहले खुद को तैयार करने में समय लगता है और इस दौरान तेज संगीत इसमें बाधा ही उत्पन्न करता है। इसलिए अच्छा हो कि धीमा संगीत बजाएं अथवा तो आपस में ही बात करें।
हड़बड़ी
प्रेम में हडबडी के लिए कोई स्थान नहीं है। यह एक वैज्ञानिक सत्य है कि पुरूष महिलाओं की अपेक्षा अधिक तेजी से उत्तेजना प्राप्त करते हैं लेकिन अपनी भावनाओं पर काबू रखना प्रेम में अति आवश्यक होता है। शुरूआत में ही अत्यधिक उत्तेजना का प्रदर्शन आपकी साथी के मूड को खराब कर देगा और उन्हें लगेगा कि आपको सिर्फ सेक्स से मतलब है।
जबरदस्ती
यह बात पुरूषों के व्यवहार पर लागू होती है। चूंकि पुरूष अपेक्षाकृत अधिक तेजी से उत्तेजित होते हैं, यदि वे अपनी भावनाओं पर काबू ना रख पाएं तो लगभग जबरदस्ती करने लगते हैं, जो कि गलत है। यदि महिला साथी तैयार ना हों तो उनकी भावनाओं को समझकर शुभरात्रीÓ कहना सही रहेगा। क्योंकि जबरदस्ती से भरी गई हामी भविष्य के लिए कड़वाहट छोड़ जाती है।
बेवजह शर्म
यह बात महिलाओं पर अधिक लागू होती है। बेवजह की शर्म अंतरंग पलों को बिगाड़ सकती हैं,
इसलिए अपने साथी के साथ खुलकर पेश आएं और अपनी ईच्छाओं के बारे में बात कीजिए।
बातचीत
पार्टनर संग आपसी बातचीत होनी बेहद जरूरी है कि आज वो किस तरह से क्या करना चाहते या चाहती हैै । उससे आप उन पलों को यादगार बनाने में भी कामयाब हो सकेंगे।

1 comment:

  1. मनुष्य ही एक ऐसा अकेला प्राणी है जिस को उत्तेजित होने के लिए किसी ना मौसम की जरूरत है ना ही समय की ! तो ये कहना उचित नहीं होगा " ये समां कल हो ना हो " ! जहाँ तक मुझे ज्ञात है , सम्भोग करते समय ,यह क्रिया पूर्ण रूप से हर्मोंसे पर अर्श्रित होती है जो की मानव शरीर से स्त्रावित होता है ! पुरुष के आन्तरिक अंगो से nitrixoxide gass स्त्रावित होती है जिस की वजह से वह उत्तेजित होते है ! स्त्रियों की धमनियों में रक्त चाप इतना अधिक बढ जाता है वो उत्तेजित हो जाती है , ये सब इन्द्रयों के समर्थन से होता है ! तो ये निराधार है , की सम्भोग में व्यवधान की कोई वजह हो सकती है

    ReplyDelete