Digital clock

Sunday, 10 May 2009

गो ग्रीन, मोर ग्रीनर


जबसे इको-फ्रेंडली की बात चली है तब से हर जगह गो-ग्रीन का नारा सुनाई देता है और हो भी क्यों ना, आखिर हमारे स्वास्थय और समाज के रख-रखाव के लिये जरूरी है। रूकिए, यह कोई हैल्थ का कॉन्सेप्ट नहीं है। यह तो इसीलिये कि आजकल जब बल्ब, कार आदि सब कुछ इको-फ्रेंडली में तबदील हो रहा है तो आखिर हमारी सेक्स या लव लाइफ क्यों नहीं। जी हां, अब समय है अपनी सेक्स लाइफ को मोर ग्रीन करने का। बेडरूम का लगाव, प्यार आपकी रिलेशनशिप के लिये ही नहीं, बल्कि पर्यावरण के लिये भी हैल्थी है। आइए जाने कुछ टिप्स जिससे आप अपनी लव और सेक्स लाइफ को इको-फ्रेंडली बना सकते है। शुरूआत करें वस्त्रों के साथ ही। आज स्लिपरी व स्टाइलिश अंर्तवस्त्रों को इको-फ्रेंडली बनाया गया है। जिनको बनाने के लिये हैम्प सिल्क, ऑरगेनिक कॉटन, बैम्बू का यूज होता है। कोशिश करें कि खरीदारी करते समय हमेशा इन्हीं को पहली पसंद बनायें। आपके कमरे की रौनक को बढ़ाने के लिये है बैम्बू शीट्स। जो सिल्की बैम्बू फेब्रिक के साथ बनाई जाती है औैर इसमें किसी भी तरह नुकसानदायक कैमिकल्स नहीं होते। जो आपके कमरे को लग्जरी लुक भी देती है। अपने पार्टनर को देने के लिये आपके पास फूलों से बेहतर ऑप्शन नहीं हो सकता। लेकिन इसके लिये आपको यदि लंबी दूरी तय करते हुए पेट्रोल फूंकना पड़े तो गलत है। इसीलिये उसके लिये आप सीजनल फ्लॉवर्स या फिर आसपास उगे हुए फूलों से भी काम चला सकते है। सेलिब्रेट करने के लिये वाइनिंग और डाइनिंग अच्छा ऑप्शन है लेकिन ऑरगेनिक वाइन को पहली पसंद बनाये। क्योंकि ऑरगेनिक वाइन हमेशा विकसित अंगूरों से ही बनती है जिसमें किसी भी प्रकार के केमिकल्स का यूज नहीं किया जाता। आजकल कंपनियां भी इस ओर ज्यादा ध्यान दें रही है इसीलिये उन्होंने सेक्स टॉय्स आदि चीजों को नेचुरल केमिकल्स को प्रयोग कर रही है इसके अलावा कंडोम भी एंवॉयमेंटली फ्रेंडली इजाद किये है।

No comments:

Post a Comment